Prasad Distribution at Hanuman Mandir Lakshminagar, Nagpur

Date : Saturday – 11 February 2023

Prasadam’ - प्रसादम

प्रसाद खाने के फायदे-

  • प्रसाद खाने से मन निर्मिल होकर चित्त शांत होता है।
  • प्रसाद खाने से मन और मस्तिष्क में सकारात्मक भाव निर्मित होते हैं।
  • प्रसाद हमें भगवान से जोड़े रखने का एक तरीका भी है।
  • प्रसाद हमारे मन में भक्ति और आस्था को जन्म देता है।
  • प्रसाद सेहत संबंधी लाभ देता है।
  • प्रसाद हमें निरोगी बनाता है, क्योंकि इसमें सभी पोषक तत्व मौजूद रहते हैं।
  • पंचामृत प्रसाद, चरणामृत का प्रसाद, गुड़, चने चिरौंजी, नारियल और तुलसी मिला अन्य व्यंजन रोग मिटाता है।

नैवेद्य - प्रसाद बाटने के लाभ -

  • श्रीमद् भगवद् गीता में भगवान श्रीकृष्ण, अर्जुन के माध्यम से हमें यह भी बताते हैं कि देवी-देवताओं के धाम जाने के बाद फिर पुनर्जन्म होता है अर्थात देवी-देवताओं का भजन करने से, उनका प्रसाद खाने से व उनके धाम तक पहुंचने पर भी जन्म-मृत्यु का चक्र खत्म नहीं होता है। (श्रीगीता 8/16)।
  • लगातार प्रसाद वितरण करते रहने के कारण लोगों के मन में भी आपके प्रति अच्छे भावों का विकास होता है।
  • इससे किसी के भी मन में आपके प्रति राग-द्वेष नहीं पनपता और आपके मन में भी उसके प्रति प्रेम रहता है।
  • लगातार भगवान से जुड़े रहने से चित्त की दशा और दिशा बदल जाती है। इससे दिव्यता का अनुभव होता है और जीवन के संकटों में आत्मबल प्राप्त होता है। देवी और देवता भी संकटों के समय साथ खड़े रहते हैं।
  • श्रीमद् भगवद् गीता (7/23) के अनुसार अंत में हमें उन्हीं देवी-देवताओं के स्वर्ग, इत्यादि धामों में वास मिलता है जिसकी हम आराधना करते रहते हैं।
  • लगातार प्रसाद वितरण करते रहने के कारण लोगों के मन में भी आपके प्रति अच्छे भावों का विकास होता है। इससे किसी के भी मन में आपके प्रति राग-द्वेष नहीं पनपता और आपके मन में भी उसके प्रति प्रेम रहता है। 

    हमारे प्रसाद वितरण कार्यक्रम में सहायता करने के लिए, कॉल करे 9922113111 / 7709711222

    डॉ अभिरुचि जैन

    www.atmasparsha.org

Prasad Distribution at Hanuman Mandir Lakshminagar, Nagpur

Prasad Distribution by Abhiruchi Palsapure

Prasad Distribution by Abhiruchi Palsapure

Prasad Distribution by Abhiruchi Palsapure

Prasad Distribution by Abhiruchi Palsapure

Prasad Distribution by Abhiruchi Palsapure